Press "Enter" to skip to content

निमोनिया: लक्षण, कारण, रोकथाम, उपचार, प्रकार

0

निमोनिया एक फेफड़ों का संक्रमण(Infection) है जो हल्के से लेकर इतना गंभीर हो सकता है कि आपको अस्पताल जाना पड़ता है। यह तब होता है जब आपके फेफड़ों में मौजूद air sacs मैं संक्रमण के कारण pus या मवाद भर जाता है इसके कारण आपके रक्त प्रवाह तक पहुंचने के लिए पर्याप्त oxygen लेने मैं भी आपको कठिनाई हो सकती है।

किसी को भी यह फेफड़ों में संक्रमण हो सकता है। लेकिन 2 साल से कम उम्र के शिशुओं और 65 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों में इसका खतरा अधिक होता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि उनकी प्रतिरक्षा प्रणाली इससे लड़ने के लिए पर्याप्त मजबूत नहीं होती है।

आपको एक या दोनों फेफड़ों में निमोनिया हो सकता है। कई बार तो निमोनिया होने पर कई दिनों तक पता भी नहीं चलता है इसे हम Walking निमोनिया कहते हैं। इसके कई कारण हैं जैसे bacteria, viruses, and fungi. यदि आपको निमोनिया बैक्टीरिया या वायरस से हुआ है, तो यह आपके आसपास रहने वाले लोगों को भी हो सकता है।

सिगरेट पीने और बहुत अधिक शराब पीने जैसी जीवनशैली की आदतें, निमोनिया होने की संभावना को भी बढ़ा सकती हैं।

निमोनिया के लक्षण और चेतावनी संकेत – Symptoms and Warning Signs of Pneumonia

Symptoms and Warning Signs of Pneumonia

निमोनिया, फेफड़े में संक्रमण, खांसी, hacking या घरघराहट का कारण बन सकता है। आप सोचेंगे कि आपको ठंड लगी है या फिर फ्लू है। अगर आप जानना चाहते हैं कि निमोनिया है या नहीं तो इसके कोई और लक्षण भी होते हैं।

सामान्य निमोनिया के लक्षण – Common pneumonia Symptoms

Common pneumonia Symptoms

निमोनिया के लक्षण हल्के से लेकर गंभीर तक हो सकते हैं, जो इस बात पर निर्भर करता है की बीमारी किस कारण से हुई है और आप सामान्य रूप से कितने स्वस्थ हैं।

1. तेज बुखार, 105 f तक
2. खांसी आना और अरे पीले या लाल रंग का बलगम आना
3. ठंड लगना
4. ऐसा महसूस करना कि आप सांस नहीं ले पा रहे हैं, खासकर जब आप कोई काम कर रहे हो
5. बहुत थकान महसूस करना
6. भूख कम लगना
7. छाती में दर्द होना, खासकर जब आप खासते हैं
8. बहुत पसीना आना
9. सांप और दिल की धड़कन बढ़ जाना
10. होंठ और नाखून नीले पड़ जाना
11. भ्रम, बुजुर्ग लोगों में

अगर आपको निमोनिया है तो आपकी छाती में घरघरआहट महसूस होगी। अगर आप किसी और की छाती सुनेंगे जिसको निमोनिया है तो उसकी छाती में से कुछ इस तरह की आवाज आएगी।

https://www.ayurvedmagic.com/wp-content/uploads/Crackles-sound-from-pneumonia-patients-chest-AyurvedMagic.ogg
स्टेथोस्कोप का उपयोग से निमोनिया वाले व्यक्ति के फेफड़ों में कुछ इस तरह की घरघरआहट वाली आवाज सुनाई देगी।

बैक्टीरियल बनाम वायरल न्यूमोनिया के लक्षण – Bacterial vs. Viral Pneumonia Symptoms

बैक्टीरिया और वायरस निमोनिया के सबसे आम कारण हैं। कवक(Fungi) और परजीवी कभी-कभी इसका कारण बन सकते हैं। अगर निमोनिया का कारण बैक्टीरिया है, तो बीमारी थी रे या जल्दी से आ सकती है। यह अन्य प्रकार की तुलना में अधिक गंभीर है।

जब कोई वायरस आपके निमोनिया का कारण बनता है, आपको कुछ दिनों में लक्षण देखने को मिलेंगे किंतु कुछ लक्षण शुरुआती दौर में देखने को मिलेंगे जैसे बुखार सूखी खांसी सिर दर्द और कमजोरी लेकिन एक-दो दिन में यही बड़ा रूप ले लेती है।

बच्चों में निमोनिया के लक्षण – Pneumonia Symptoms in Children

जब बच्चों को निमोनिया होता है, तो उनके लक्षण पहचानने में मुश्किल हो सकती है।

1. तेजी से साँस लेने
2. साँस लेने में कठिनाई
3. बुखार
4. खांसी
5. घरघराहट
6. त्वचा, हॉट या उंगलियां नीली हो जाती हैं

शिशुओं में लक्षण अस्पष्ट हो सकते हैं, फुस्सपन या खाने में परेशानी।

निमोनिया बनाम कोल्ड और फ्लू के लक्षण – Pneumonia vs. Cold and Flu Symptoms

यह मुश्किल है, क्योंकि निमोनिया सर्दी और फ्लू की शिकायत हो सकती है। ऐसा तब होता है जब उन सामान्य बीमारियों का कारण बनने वाले कीटाणु आपके फेफड़ों में पहुंच जाते हैं। आप बेहतर महसूस कर रहे होंगे, लेकिन फिर आपको लक्षण दिखाई देने लगेंगे – और इस समय, वे बहुत गंभीर हो सकते हैं।

ठंड के लक्षण धीरे-धीरे शुरू होते हैं। आपके छींकने, नाक बहने, गले में खराश होने –
यह लक्षण निमोनिया की तुलना में flu में ज्यादा देखने को मिलते हैं। जुकाम आमतौर पर वयस्कों में बुखार का कारण नहीं होता है।

ब्लू होने का सबसे बड़ा संकेत यह है कि कोई भी लक्षण बहुत ज्यादा और एकदम से आएगा जैसे:
1. 100.4 F से ऊपर बुखार
2. सरदर्द
3. गंभीर पीड़ा और लगातार दर्द
4. अत्यधिक थकान
5. सुखी, hacking खासी

ये लक्षण 2 से 5 दिनों में कम हो जाते हैं, लेकिन आपको 2 सप्ताह तक हल्की खांसी या गले में खराश हो सकती है।

ऊपर दी गई सभी जानकारी की फोटो(Infographics) download करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें।

कितनी उम्र तक के बच्चों को निमोनिया के टीके लग सकते है?

24 महीने से कम उम्र के शिशुओं को 4 टीके लगते हैं। पहला 2 महीने में, दूसरा 4 महीने में, तीसरा 6 महीने में और एक अंतिम बूस्टर जो 12 से 15 महीने मैं दिया जाता है। कितने टीके लगने चाहिए और टीको के बीच का समय बच्चे की उम्र पर निर्भर करता है।

न्यूमोकोकल Vaccine (टीके) के दुष्प्रभाव

1. जहां पर टीका लगाया जाता है वहां पर सूजन, दर्द, हल्का सा लाल पड़ जाता है। यह हर चार में से एक को होता है।
2. प्रत्येक तीन शिशुओं में से लगभग एक में 100.4 F से अधिक बुखार होता है।
3. प्रत्येक 50 बच्चों में से एक में 102.2 F से अधिक बुखार होता है।
4. कभी-कभी कम भूख लगना, बच्चा चिड़चिड़ा हो जाना, नींद आना।

1% से कम में अधिक गंभीर प्रतिक्रिया होती है, जैसे कि बुखार या मांसपेशियों में दर्द।

क्या निमोनिया जानलेवा हो सकता है?

अगर निमोनिया के दौरान सेप्टिक हो जाए तो फिर स्थिति घातक हो सकती है और मरीज की जान भी जा सकती है। निमोनिया की गंभीर स्टेज में मरीज को आईसीयू में ऐडमिट कराने और कई बार ऑक्सिजन सपॉर्ट की जरूरत पड़ जाती है।

When to Call Your Doctor – डॉक्टर के पास कब जाएं।

अगर आपको या आपके बच्चे को सर्दी या flu है जो आराम और normal दवाइयों से ठीक नहीं हो रहा है। या लक्षण बहुत बढ़ जाते हैं, या आपको और भी कोई बीमारी है या कमजोर इम्यून सिस्टम है या फिर निमोनिया के सिम्टम्स दिखाई दे तो तुरंत डॉक्टर के पास जाएं।

फेफड़ों के संक्रमण वाले किसी भी व्यक्ति को चिकित्सा की आवश्यकता होती है। कृपया करके इसे हल्के में ना लें।

Types of Pneumonia – निमोनिया के प्रकार

Types of Pneumonia

यदि आपको निमोनिया हो जाता है, तो इसका मतलब है कि आपके फेफड़ों में बैक्टीरिया, वायरस और अन्य कीटाणुओं के कारण संक्रमण है। “आपको किस प्रकार का निमोनिया है” के बारे में जानकर डॉक्टर आपका सही से इलाज कर पाएंगे।

डॉक्टर कुछ इस प्रकार के शब्दों का प्रयोग करेंगे आप के इलाज के दौरान।:

1. अस्पताल-अधिग्रहित निमोनिया – Hospital-acquired pneumonia.

Hospital-acquired pneumonia

इस प्रकार का निमोनिया बहुत खतरनाक होता है क्योंकि यह तब होता है जब आपकी छाती में निमोनिया करने वाले बैक्टीरिया पर दवाइयों का असर होना बंद हो जाता है।

आपको इस प्रकार का निमोनिया होने की अधिक संभावना है यदि:

1.आप सांस लेने वाली मशीन पर हो।
2. आप इतनी जोर से नहीं खास पा रहे हैं कि आप अपने फेफड़े साफ कर पाए।
3. आप को सांस लेने में मदद करने के लिए tracheostomy (trach) पाइप लगाई गई है।
4. आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली आपके शरीर को बैक्टीरिया से नहीं बचा पा रही है क्योंकि आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली बहुत कमजोर हो गई है।

2. समुदाय उपार्जित निमोनिया – Community-acquired pneumonia.

Community-acquired pneumonia

यह निमोनिया बैक्टीरिया, वायरस या fungi के कारण होता है। टिक्का (Vaccines) फ्लू वायरस और कुछ बैक्टीरिया से बचाने में मदद कर सकते हैं जो निमोनिया का कारण भी बन सकते हैं।

समुदाय-अधिग्रहित निमोनिया में आकांक्षा निमोनिया भी शामिल है, जो आपको भोजन, तरल पदार्थ, या उल्टी सांस लेने पर होता है। जिसको हम “सांस नली में भोजन चला गया” भी कहते हैं।

यह ज्यादातर तब होता है जब आपको भोजन निगलने में दिक्कत हो या खांसी हो। अगर आप सांस नली में गए पदार्थ को खासकर बाहर नहीं निकाल पाते हैं तो वह आपके फेफड़ों में बैक्टीरिया का कारण बन सकता है।

डॉक्टर बीमारी का पता लगाने के लिए यह भी देखते हैं की बीमारी किस वजह से हुई है जैसे कि बैक्टीरिया, वायरस या fungi.

3. बैक्टीरियल निमोनिया – Bacterial Pneumonia

Bacterial Pneumonia

बैक्टीरियल निमोनिया आपके फेफड़ों में होने वाला एक संक्रमण है जो कुछ बैक्टीरिया के कारण होता है। Streptococcus (pneumococcus) सबसे आम प्रकार का बैक्टीरिया है, लेकिन यह अन्य बैक्टीरिया के कारण भी हो सकता है। यदि आप युवा हैं और मूल रूप से स्वस्थ हैं, तो ये बैक्टीरिया बिना किसी परेशानी के आपके गले में रह सकते हैं। लेकिन अगर आपके शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली किसी कारण से कमजोर हो जाती है, तो बैक्टीरिया आपके फेफड़ों में जा सकते हैं। जब ऐसा होता है, तो आपके फेफड़ों में मौजूद air sacs संक्रमित और सूज जाते हैं। फिर वे तरल पदार्थ से भरते हैं, और इससे निमोनिया होता है।

आपको बैक्टीरियल निमोनिया होने का खतरा है अगर आप :

1. 65 या उससे अधिक उम्र के हैं।
2. अस्थमा, मधुमेह या हृदय रोग जैसी अन्य बीमारियां है।
3. हाल ही में आप की सर्जरी (surgery) हुई है।
4. अच्छा खाना नहीं खा रहे हैं या फिर इतना खाना नहीं खा रहे हैं कि आपके शरीर को पूरी तरह से मिनरल्स और विटामिंस मिल सके ।
5. और बीमारी है जो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर कर रही है।
6. धूम्रपान
7. बहुत अधिक शराब पीना।
8. अगर आपको वायरल निमोनिया है।

जिन लोगों की प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर होती है, उनमें भी बैक्टीरियल निमोनिया होने का खतरा बढ़ जाता है। इन लोगों में वह शामिल है जिन लोगों की हाल ही में अंग प्रत्यारोपण organ transplant हुआ है । जो लोग HIV पॉजिटिव हैं, या जिन्हें ल्यूकेमिया, लिम्फोमा या गंभीर किडनी की बीमारी है, उनमें भी संक्रमण होने की अधिक संभावना है।

बैक्टीरियल निमोनिया के लक्षण – symptoms of bacterial pneumonia

लक्षण तेज और उग्र हो सकते हैं, या वे कुछ दिनों में बहुत अधिक हो सकते हैं । सामान्य लक्षण हैं:

1. 105 F तक तेज बुखार।
2. हरे, पीले, या खूनी बलगम आना खांसी के साथ ।
3. ठंड लगना ।
4. ऐसा लगना कि आप अपनी सांस कुछ देर के लिए रोक नहीं सकते ।
5. अधिक थकान महसूस करना ।
6. कम भूख लगना ।
7. छाती में सुई सी चुभना, खासकर जब आप हंसते हैं या जब लंबी सांस लेते हैं ।
8. ज्यादा पसीना आना ।
9. तेज सांस लेना और तेज दिल धड़कना ।
10. हॉट और नाखून नीले पड़ जाना ।
11. भ्रम, खासकर यदि आप बड़े हैं।

बैक्टीरियल निमोनिया की रोकथाम – prevention of bacterial pneumonia

बैक्टीरियल निमोनिया के लिए दो प्रकार के shots हैं। :

1. PCV13 (Prevnar 13) इनके लिए है। :
65 या उससे अधिक उम्र के लोग।
5 साल से कम उम्र के बच्चे।
जिन लोगों में बैक्टीरियल निमोनिया का खतरा अधिक होता है।
2. PPSV23 (Pneumovax) इनके लिए है। :
65 या उससे अधिक उम्र के लोग।
2 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों जिनमें बैक्टीरियल निमोनिया का खतरा अधिक है।
19 और 64 के बीच के लोग जो धूम्रपान करते हैं या जिन्हें अस्थमा है।

क्या आपको या आपके बच्चे को shot चाहिए और अगर चाहिए है तो कौन सा, यह पता लगाने के लिए अपने डॉक्टर से बात करें ।

शॉट्स लेने के अलावा, आप इन चीजों को करके बैक्टीरियल निमोनिया होने का खतरा कम कर सकते हैं:

1. अपने हाथों को सही से दोहे, खासकर जब आप बाथरूम जाते हैं या फिर खाना खाने से पहले।
2. फल और सब्जियों दोनों सही मात्रा में खाएं क्योंकि दोनों सी चीजें जरूरी हैं।
3. व्यायाम करें।
4. पूरी नींद ले ।
5. धूम्रपान छोड़ दे ।
6. हो सके तो बीमार लोगों से दूर रहें।

बैक्टीरियल निमोनिया का निदान – Diagnosis of bacterial pneumonia

डॉक्टर आपके स्वास्थ्य के बारे में कुछ सवाल पूछ कर और लक्षण देखकर यह बता सकता है कि आपको बैक्टीरियल निमोनिया है या नहीं । वह शायद आपके फेफड़ों को स्टेथोस्कोप से सुनेंगे ताकि वह आपके फेफड़ों में से बह रही हवा को सुन सके। लेकिन अगर वह निश्चित नहीं है, तो आपको छाती का एक्स-रे करवाना पड़ सकता है।

कुछ लोगों को अतिरिक्त परीक्षणों की आवश्यकता हो सकती है। इनमें शामिल हो सकते हैं:

1. Pulse oximetry(एक छोटा सा gizmo आपकी उंगली पर लगाया जाएगा जो आपके रक्त में ऑक्सीजन की जांच करता है)
2. रक्त परीक्षण
3. आपके थूक का टेस्ट
4. आपके फेफड़ों में अधिक बारीकी से देखने के लिए सीटी स्कैन

बैक्टीरियल निमोनिया का इलाज – Treatment of bacterial pneumonia

आपका डॉक्टर शायद एंटीबायोटिक्स लिखेगा। यह बहुत महत्वपूर्ण है कि आप इन सभी को पूरा करें। अन्यथा बैक्टीरिया सभी नहीं मारे जा सकते हैं और आप फिर से बीमार हो सकते हैं। आपका डॉक्टर दर्द और बुखार के लिए दवा भी दे सकता है।

अन्य चीजें जो आप अपने आप को जल्दी ठीक करने में कर सकते हैं:

1. बहुत सारा आराम करें।
2. पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थ पिएं (वे आपके फेफड़ों में गन को ढीला कर देंगे ताकि आप इसे बाहर निकाल सकें)।
3. ह्यूमिडिफायर का उपयोग करें या गर्म स्नान करें।
4. धूम्रपान न करें।
5. जब तक आपका बुखार कम नहीं हो जाता है, तब तक घर पर रहें ।

बैक्टीरिया निमोनिया के लिए इलाज किए जाने वाले अधिकांश लोग कुछ दिनों में बेहतर महसूस करना शुरू कर देते हैं, लेकिन आपको 100% बेहतर महसूस करने में कुछ सप्ताह लग सकते हैं। सुनिश्चित करें कि आप डॉक्टर के पास समय-समय पर जाते रहे ताकि आपका डॉक्टर आपके फेफड़ों की जांच कर सके।

यदि निमोनिया गंभीर है, तो आपको अस्पताल जाना पड़ सकता है। यदि आप अस्पताल जाते हैं, तो आपके यह इलाज हो सकते हैं। :

1. Oxygen उपचार।
2. IV तरल पदार्थ और दवाएं।
3. उपचार जो आपके gunk को ढीला करेंगे।

4. सादा निमोनिया – Walking pneumonia

Walking pneumonia

“Walking pneumonia” ऐसा लगता है कि यह किसी भूतिया फिल्म का नाम है। लेकिन यह असलियत में निमोनिया का सबसे कम खतरनाक प्रकार है। इसलिए आपको आमतौर पर अस्पताल में भी नहीं रहना पड़ेगा।

“सादा निमोनिया” बैक्टीरियल निमोनिया का एक कम गंभीर रूप है। कभी-कभी डॉक्टर इसे “atypical निमोनिया” भी कहते हैं।

लक्षण इतने हल्के हो सकते हैं कि आपको पता भी नहीं चलेगा कि आप को निमोनिया है। रोजमर्रा के काम करने में आपको अपना शरीर ठीक लगता रहेगा, इसी वजह से इस नमो निया के नाम में “walking” शब्द आता है।

आपको यह एक जुखाम की तरह लग सकता।

अक्सर इसका कारण फेफड़ों में इंफेक्शन होता है। बहुत सी चीजें इस इंफेक्शन का कारण हो सकती है जैसे कि:

1. बैक्टीरिया – Bacteria
2. वायरस – Viruses
3. कवक(Fungi)
4. रसायनी पदार्थ – Chemicals
5. सांस नली में भोजन चला जाना । – Inhaled food

Walking pneumonia ज्यादातर “Mycoplasma pneumoniae” नाम के बैक्टीरिया के कारण होता है।

अगर आपको यह हो जाता है, तो संभवतः आपको बिस्तर पर या अस्पताल में नहीं रहना पड़ेगा। बल्कि आप अगर ठीक महसूस कर रहे हैं तो आप काम पर भी जा सकते हैं और अपने रोजमर्रा के काम भी कर सकते हैं, जैसे कि आप जुखाम में करते हैं।

यह किसको हो सकता है ?

यह किसी को भी हो सकता है। Mycoplasma से होने वाला Walking pneumonia सबसे ज्यादा बच्चों, सैन्य भर्तियों वाले लोगों और 40 से कम उम्र के लोगों में होता है।

जो लोग भीड़-भाड़ वाले स्थानों में रहते हैं या काम करते हैं, जैसे कि स्कूल, dorms, सैन्य बैरक और nursing homes.

गर्मियों के बाद और सर्दियों से पहले के बीच के समय यह सबसे ज्यादा फैलता है। लेकिन आपको इंफेक्शन साल के किसी भी समय हो सकता है।

क्या यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकती हैं ? – Is It Contagious?

हां। यह ठीक या खासी से फैलता है। लेकिन यह धीरे-धीरे फैलता है। अगर यह आपको हो जाता है तो आप 10 दिनों तक इसे फैला सकते हैं।

शोधकर्ताओं को लगता है की यह तब ही फैल सकता है जब कोई आम व्यक्ति संक्रमित व्यक्ति के बहुत अधिक पास रहता हो। फिर भी, हर चार से आठ साल में व्यापक प्रकोप होता है।

वाकिंग निमोनिया के लक्षण – Symptoms of Walking pneumonia

माइकोप्लाज़्मा के संपर्क में आने के बाद लक्षण आमतौर पर 15 से 25 दिनों से शुरू होते हैं और धीरे-धीरे दो से चार दिनों में बहुत अधिक हो जाते हैं।

Walking pneumonia आपको जुखाम की तरह लग सकता है, इन लक्षणों के साथ:

1. जब आप गहरी सांस लेते हैं तो छाती में दर्द होना।
2. खांसी
3. हल्के फ्लू जैसे लक्षण जैसे बुखार और ठंड लगना।
4. गले में खरास
5. सरदर्द
6. थकान
7. अन्य लक्षणों के चले जाने के बाद लिंग की कमजोरी

कुछ walking pneumonia वाले लोगों को कई बार कान में संक्रमण, एनीमिया(anemia), या त्वचा पर दाने भी हो सकते हैं।

Walking pneumonia का निदान – diagnosis of Walking pneumonia

डॉक्टर आपका इलाज शुरू करने से पहले आपसे बात करेगा और आपकी शरीर की जांच कराएगा।

डॉक्टर को अपने लक्षणों के बारे में बताएं और आपको यह कितने दिनों से है यह भी बताएं। डॉक्टर आपसे यह भी पूछ सकता है कि आप कहां काम करते हैं और क्या कोई घर पर या काम पर बीमार है।

डॉक्टर स्टेथोस्कोप के साथ आपकी छाती को सुनेंगे। वह आपको छाती का एक्स-रे और रक्त परीक्षण कराने के लिए भी कह सकता है। एक ऐसा रक्त परीक्षण भी है जो mycoplasma संक्रमण को पकड़ सकता है।

एक अन्य रक्त परीक्षण में “cold agglutinins” नामक कुछ प्रतिरक्षा पदार्थों में वृद्धि देखी जा सकती है। यह परीक्षण इस बात की पुष्टि नहीं करेगा कि आपको walking pneumonia है, लेकिन यह इसका निमोनिया का अनुमान दे सकता है।

वाकिंग निमोनिया का उपचार – Treatment of walking pneumonia

सर्दी जुखाम के लिए इस्तेमाल होने वाली कई दवाइयां आपको सभी लक्षणों से राहत नहीं दे सकती हैं।

एंटीबायोटिक “संक्रमण” का इलाज करते हैं। आप 3 से 5 h मैं बेहतर महसूस करने लगेंगे, हालांकि खांसी कुछ हफ्तों मैं ठीक होगी।

आपका डॉक्टर यह तय करेगा कि आपको एंटीबायोटिक दवाइयों की आवश्यकता है या नहीं। अगर वह आपको एंटीबायोटिक्स देते हैं तो आपको कुछ ही दिनों में बेहतर महसूस होने लगेगा।

अपने डॉक्टर को हर दवाई के बारे में बताएं जो आप इस समय ले रहे हैं या लेने की योजना बना रहे हैं। आपको ज्यादा से ज्यादा तरल पदार्थ पीने चाहिए और ज्यादा से ज्यादा आराम करना चाहिए।

क्या मुझे यह बार-बार हो सकता है ?

यह संभव है। आप कुछ दिनों के लिए ठीक रह सकते हैं लेकिन यह स्पष्ट नहीं है कितने दिनों के लिए। यदि यह आपको दोबारा होता है तो यह पिछली बार से कम खतरनाक होगा।

वाकिंग निमोनिया के लिए रोकथाम – Prevention for walking Pneumonia

माइकोप्लाज़्मा संक्रमण के लिए कोई टीका नहीं है, इसलिए आप इसे पूरी तरह से रोक नहीं सकते हैं।

कुछ ऐसी चीजें हैं जो आप कम कर सकते हैं ताकि आपको यह ना हो ।

1. व्यायाम करें, अच्छी तरह से संतुलित आहार लें, और पर्याप्त नींद लें। इन चीजों को करने से आपका शरीर स्वस्थ रहेगा और संक्रमण को रोकने में मदद मिलेगी ।
2. अपने हाथ अक्सर धोएं। यह कीटाणुओं को फैलने से रोकने का सबसे अच्छा तरीका है।
3. धूम्रपान न करें। धूम्रपान फेफड़ों को नुकसान पहुंचाता है, और क्षतिग्रस्त फेफड़े संक्रमित होने की अधिक संभावना है।
4. खांसी या छींक आने पर अपने मुंह को अपनी आस्तीन से ढक लें। और दूसरों से भी ऐसा ही करने को कहें। खांसी और छींकना मुख्य कारण हैं जिनसे ये संक्रमण फैलता है।

5. वायरल निमोनिया – Viral Pneumonia

Viral Pneumonia

निमोनिया आपके फेफड़ों में एक संक्रमण है, और यह आपको बहुत बीमार कर सकता है। यह आमतौर पर बैक्टीरिया, वायरस या कवक के कारण होता है। अमेरिका में लगभग 30% निमोनिया फैलते (viral) हैं।

वायरल निमोनिया के लक्षण – Symptoms of viral pneumonia

वायरल निमोनिया के लक्षण कुछ इस तरह होते हैं। :

1. सूखी खाँसी
2. बुखार
3. ठंड लगना
4. ऐसा लगना कि आप सांस कम ले पा रहे हैं।
5. खांसने या सांस लेने पर आपके सीने में दर्द होना।
6. तेजी से साँस लेने

अगर आपको इनमें से कोई भी लक्षण है, तो तुरंत डॉक्टर के पास जाएं।

वायरल निमोनिया के कारण – Cause of Viral Pneumonia

वायरस जिनके कारण निमोनिया हो सकता है। :

1. Influenza(flu) वयस्कों में A और B वायरस सबसे आम कारण हैं।
2. Respiratory syncytial virus, or RSV, शिशुओं और बच्चों में वयस्कों की तुलना में अधिक आम है।
3. कुछ ऐसे वायरस भी है जो निमोनिया के साथ आंखों में गुलाबी पन का कारण भी बन सकते हैं जैसे कि
4. coronaviruses
5. rhinoviruses
6. parainfluenza viruses
7. adenoviruses

अन्य वायरस जो अधिक दुर्लभ रूप से वायरल निमोनिया का कारण बनते हैं उनमें दाद सिंप्लेक्स, खसरा और चिकनपॉक्स आते हैं।

वायरल न्यूमोनिया कैसे फैलता है – How Viral Pneumonia Spreads

विषाणु जो किसी के छींकने या खांसने के बाद द्रव की बूंदों में हवा के माध्यम से निमोनिया का कारण बनते हैं। ये तरल पदार्थ आपके नाक या मुंह के माध्यम से आपके शरीर में जा सकते हैं।

जब आप किसी वायरल से ग्रसित याडोरबर्न या कीबोर्ड को छूने के बाद अगर आप अपने हाथों को मुंह या नाक को छूते हैं तो भी आपको यह वायरल निमोनिया हो सकता है।

वायरल निमोनिया का निदान – Diagnosing Viral Pneumonia

आप का इलाज इस बात पर निर्भर करेगा कि आपका संक्रमण कितना गंभीर है। यदि आपको हल के लक्षण हैं, तो डॉक्टर रक्त परीक्षण या छाती का एक्स-रे कर सकता है।

यदि आप के लक्षण गंभीर हैं, और आपकी उम्र 65 या इससे ज्यादा है या फिर छोटा बच्चा है, तो डॉक्टर आपको तरल पदार्थ इकट्ठा करने की सलाह दे सकते हैं। वह आपके वायुमार्ग की जांच के लिए आपके गले मैं कैमरा भी डाल कर देख सकते हैं।

वायरल निमोनिया का इलाज – Treatment of viral pneumonia

यदि कोई वायरस आपके निमोनिया का कारण बन रहा है, तो एंटीबायोटिक्स मदद नहीं कर सकते हैं, लेकिन आपका डॉक्टर एक एंटीवायरल दवा लिख सकता है।

1. यदि आपको इन्फ्लूएंजा वायरस है, तो डॉक्टर आपको oseltamivir (Tamiflu), zanamivir (Relenza), or peramivir (Rapivab) जैसी दवाएं लेने के लिए बोल सकता है। ये दवाएं आपके शरीर में फ्लू के वायरस को फैलने से रोकती हैं।
2. यदि RSV आपके निमोनिया का कारण है, तो डॉक्टर आपको ribavirin (Virazol) जैसी दवाएं लेने के लिए बोल सकता है। यह दवाई वायरस को फैलने से रोकने में मदद करती है।

जब आपको निमोनिया होता है, तो बहुत आराम करना महत्वपूर्ण है। यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपके फेफड़े साफ हैं, उपचार के बाद अपने चिकित्सक से वापस जांच कराने के लिए जाएं।

वायरल निमोनिया की रोकथाम – Prevention of viral pneumonia

फ्लू को रोकने के लिए आप जो प्रयास करेंगे वही कदम निमोनिया की संभावना को कम करने में भी मदद करेगा।

1. अपने हाथ अक्सर धोएं। खाना खाने या खाना बनाने से पहले अपने हाथ कम से कम 20 सेकंड के लिए साबुन और पानी से धोएं। जब आप सार्वजनिक स्थानों पर हों, तो सैनिटाइज़र का उपयोग करें।
2. खांसने या छींकने रहे लोगों से दूर रहें।
3. अपने हाथों को अपनी आंखों, कान, नाक और मुंह से दूर रखें।

6. कवक निमोनिया – Fungal Pneumonia

Fungal Pneumonia

कवक के कारण बहुत कम निमोनिया होता है। अगर आप स्वस्थ हैं तो आपको यह निमोनिया नहीं हो सकता। लेकिन अगर आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर इन चीजों की वजह से कमजोर है तो यह आपको आसानी से हो सकता है:

1. अगर आपका कोई ऑर्गन बदला गया है।
2. अगर आपकी कीमोथेरेपी चल रही है।
3. सर आप autoimmune बीमारियों को ठीक करने के लिए दवाई ले रहे हैं जैसे कि rheumatoid arthritis.
4. HIV

जब आप छोटे कण सांस के जरिए अपने अंदर लेते हैं जिन्हें हम fungal spores भी कहते हैं तो आपको कब निमोनिया हो सकता है। कुछ नौकरियों में इनके संपर्क में आने की संभावनाएं ज्यादा होती हैं जैसे कि:

1. किसान जो पक्षी, चमगादड़, या चूहे की मिंगल के आसपास काम करते हैं।
2. Landscapers और माली जो मिट्टी में काम करते हैं।
3. सैनिक और मजदूर जो ज्यादातर धूल के आसपास हो।

फंगल निमोनिया के लक्षण अन्य प्रकारों के समान हैं, जैसे :

1. बुखार
2. खांसी

7. रासायनिक (केमिकल) निमोनिया – Chemical Pneumonia

Chemical Pneumonia

रासायनिक निमोनिया एक असामान्य प्रकार का फेफड़ों की जलन है। निमोनिया आमतौर पर एक बैक्टीरिया या वायरस के कारण होता है। रासायनिक निमोनिया में, फेफड़े के ऊतकों(tissue) की सूजन जहर या विषाक्त पदार्थों से होती है। यह निमोनिया बहुत कम पाया जाता है।

1. कई पदार्थ रासायनिक निमोनिया का कारण बन सकते हैं, जिसमें तरल पदार्थ, दुआ, गैस और छोटे कण, जैसे धूल, जिन्हें particulate matter भी कहा जाता है। कुछ रसायन केवल फेफड़ों को नुकसान पहुंचाते हैं; हालाँकि, कुछ विषाक्त पदार्थ फेफड़ों के अतिरिक्त अन्य अंगों को प्रभावित करते हैं और परिणामस्वरूप गंभीर अंग क्षति या मृत्यु हो सकती है।
2. रासायनिक निमोनिया Aspiration के कारण हो सकता है। Aspiration का मतलब है कि आपके फेफड़ों में कोई खाने वाला पदार्थ चला गया है जैसे फूंक, भोजन, उल्टी।
3. फेफड़ों के tissue मैं सूजन पेट के एसिड और एंजाइमों के विषाक्त प्रभाव से होती है। पेट या मुंह के बैक्टीरिया के कारण भी आपको बैक्टीरियल निमोनिया हो सकता है।
4. रासायनिक निमोनिया केवल एक प्रकार की फेफड़ों की सूजन है। आप वायरल निमोनिया और बैक्टीरिया निमोनिया के बारे में ऊपर पढ़ सकते हैं।

रासायनिक निमोनिया के लक्षण – Symptoms of Chemical Pneumonia

रासायनिक निमोनिया के लक्षण बहुत भिन्न होते हैं, और कई कारक इसकी गंभीरता को निर्धारित करते हैं। उदाहरण के लिए, एक बड़े आउटडोर पूल में क्लोरीन के संपर्क में आने से आपको केवल खांसी और आंखों में जलन हो सकती है। एक छोटे से कमरे में क्लोरीन के उच्च स्तर के संपर्क मैं आने से सांस लेने में विफलता के कारण आप मर सकते हैं।

लक्षणों की गंभीरता को निर्धारित करने वाले कारणों में निम्नलिखित शामिल हैं:

1. प्रकार और रसायन कितना तेज है।
2. एक्सपोजर वातावरण – घर के अंदर, बाहर, गर्म, ठंडा
3. कितनी समय से है – सेकंड, मिनट, घंटे
4. रासायनिक का रूप – गैस, वाष्प, कण, तरल
5. कौनसे सुरक्षात्मक उपायों किए
6. पूर्व चिकित्सा स्थिति
7. आपकी उम्र

रासायनिक निमोनिया के निम्न संकेत और लक्षण हो सकते हैं:

1. लक्षण
1. नाक, आंख, होंठ, मुंह और गले में जलन
2. सूखी खांसी
3. गीली खांसी दौला, पीले या हरे बलगम का उत्पादन
4. खांसी के साथ खून आना या लार में भद्दा गुलाबी पदार्थ
5. Nausea या पेट में दर्द
6. छाती में दर्द
7. साँसों लेने में कमी महसूस होना
8. सांस लेने में दर्द होना (फेफड़ों के बाहरी आवरण मैं सूजन)
9. सरदर्द
10. फ्लू जैसे लक्षण
11. कमजोरी या बीमार महसूस करना

2. संकेत जो डॉक्टर निरीक्षण कर सकते हैं
1. तीव्र या उथली साँस
2. तेज दिल की धड़कन
3. मौखिक, नाक या त्वचा जलन या जल जाना
4. पीली त्वचा और होंठ
5. पसीना आना
6. परिवर्तित सोच
7. बेहोशी की हालत
8. आँखों या जीभ में सूजन
9. कर्कश या खनकती आवाज
10. शरीर के अन्य क्षेत्रों पर रासायनिक गंध
11. खांसी में खून आना
12. बुखार

चिकित्सा देखभाल के लिए कब जाए – When to Seek Medical Care

रासायनिक निमोनिया के किसी भी लक्षण दिखाई देने पर डॉक्टर या स्थानीय ज़हर नियंत्रण केंद्र पर जाएं। गंभीर लक्षण या संकेत वाले किसी भी व्यक्ति को तत्काल अस्पताल के आपातकालीन विभाग में एम्बुलेंस द्वारा पहुंचाया जाना चाहिए।

अगर आप “रसायन किस तरह का था” यह बता पाएंगे तो विष नियंत्रण केंद्र और चिकित्सक दोनों के लिए सही इलाज करने में मददगार साबित होगा।

निम्नलिखित स्थितियों के उपचार के लिए अस्पताल के आपातकालीन विभाग में तत्काल मूल्यांकन (evaluation) आवश्यक है:

1. बेहोशी की हालत।
2. सायनोसिस – मुंह या त्वचा का एक नीला पड़ जाना।
3. सांस लेने मे तकलीफ।
4. आवाज का अचानक बदलना।
5. मुंह या गले में सूजन।
6. छाती में दर्द।
7. सांस लेने में कमी महसूस होना।
8. खांसी के कारण झागदार थूक या खूनी थूक आना।
9. परिवर्तित सोच।
10. घातक रसायन के संपर्क में आना।
11. उल्टी आना।

विश्व नियंत्रण केंद्र अन्य तिथियां भी बता सकता है रसायन के हिसाब से जिन्हें आपातकालीन देखभाल की आवश्यकता हो सकती है।

रासायनिक निमोनिया के लिए परीक्षा और परीक्षण – Exams and Tests for Chemical Pneumonia

संकेत और लक्षणों के आधार पर रासायनिक निमोनिया का निदान और उपचार अलग-अलग होंगे। लक्षण जितने तेजी से दिखाई देंगे उतनी ही अच्छी तरह से रसायन की पहचान की जा सकेगी।

1. कभी-कभी गंभीर संकेतों और लक्षणों को जीवन-रक्षक प्रक्रियाओं की आवश्यकता हो सकती है, जैसे कि artificial ventilation, advanced cardiac life support, जटिल चिकित्सा। ज्यादातर मामलों में, डॉक्टर सलाह के लिए स्थानीय ज़हर नियंत्रण विशेषज्ञों से परामर्श करेंगे।
2. डॉक्टर को पहले यह सुनिश्चित करना चाहिए कि अस्पताल के कर्मचारियों को स्वयं जोखिम नहीं है।
3. अगली प्राथमिकता रासायनिक की पहचान करना और इस रसायन का फेफड़ों और शरीर के बाकी हिस्सों पर पड़ने वाले प्रभावों को समझना है।
4. चिकित्सा के दौरान यह सब कुछ देखा जाएगा की व्यक्ति रसायन के संपर्क में कितनी देर से है, रसायन शरीर के किस जगह पर है, रसायन का रूप तरल या gas or solid, रसायन कितना तेज है, अन्य चिकित्सा समस्याएं और लक्षण शामिल होंगे।

महत्वपूर्ण संकेतों के निरीक्षण के अलावा यह चीजें भी देखी जाएंगी :

1. दिल की धड़कन की गति
2. रक्तचाप
3. सांस लेने की गति
4. तापमान
5. आपके रक्त में कितनी ऑक्सीजन है

डॉक्टर कम से कम आंखों, नाक, गले, त्वचा, हृदय, फेफड़े और पेट का मूल्यांकन करेंगे।

एक बार ये कदम उठाए जाने के बाद, घायल व्यक्ति की स्थिति, रासायनिक जोखिम के प्रकार और अन्य कारकों के आधार पर आगे का मूल्यांकन अलग-अलग हो सकता है।

रासायनिक निमोनिया के लिए उपचार – Treatment for Chemical Pneumonia

घर पर स्व-देखभाल – Self-Care at Home

चिकित्सा देखभाल लेने का आपका निर्णय लक्षणों की गंभीरता और जोखिम के अन्य कारकों पर निर्भर करता है।

यदि आप गलती से रसायन पी लेते या सूंघ लेते हैं। तो आपको चिकित्सा सलाह लेनी चाहिए। आप मदद के लिए अपने स्थानीय ज़हर नियंत्रण केंद्र को कॉल कर सकते हैं। यदि आपके लक्षण गंभीर हैं, तो आपको अस्पताल में तत्काल उपचार के लिए जाना चाहिए।

अस्पताल जाने तक घर पर देखभाल चिकित्सा प्रबंधन सबसे महत्वपूर्ण हो सकता है।

1. जल्दी से आपत्तिजनक रासायनिक या जोखिम वाले क्षेत्र से दूर हो जाएं। यदि संभव हो, तो उसी रसायन से दूसरों को उजागर करने। एक बार जब आप क्षेत्र से दूर हो जाते हैं, तो आगे के परिशोधन पर विचार करें, जैसे कि कपड़े बदलना और शरीर के उस हिस्से को धोना।
2. आगे की समस्याओं से बचने के लिए उपयुक्त अधिकारियों को सचेत करें।
3. रासायनिक को पहचानें।
4. चिकित्सा मूल्यांकन में स्थानीय पुलिस, अग्निशमन विभाग, आपातकालीन चिकित्सा सेवाएं – emergency medical services (EMS), और hazardous materials personnel शामिल हो सकते हैं।

रासायनिक निमोनिया के लिए चिकित्सा उपचार – Medical Treatment for Chemical Pneumonia

मूल्यांकन और उपचार अलग-अलग होते हैं। लगभग सभी में रक्तचाप, ऑक्सीजन स्तर, हृदय गति और श्वसन दर के माप होंगे।

रासायनिक निमोनिया वाले कई लोगों में, उपचार ज्यादातर अवलोकन है। कभी-कभी लक्षण समय के साथ विकसित होते हैं और नुकसान की मात्रा पूरी तरह से कई घंटों तक नहीं जानी जाती है।

कई उपचार संभव हैं, जिनमें निम्नलिखित शामिल हैं:

1. IV तरल पदार्थ
2. मास्क या ट्यूब द्वारा ऑक्सीजन
3. श्वास नलियों को खोलने के लिए दवा
4. IV या मुंह द्वारा स्टेरॉयड दवाएं
5. Non-steroidal anti-inflammatory drugs मुंह के द्वारा
6. IV या मुंह के द्वारा दर्द की दवाएं
7. कृत्रिम वेंटिलेशन – Artificial ventilation (सांस लेने में मदद करेगा)
8. निवारक एंटीबायोटिक्स – Preventive antibiotics (कभी-कभी)

अगला चरण – आउटलुक – Next Steps — Outlook

रोग के लक्षण (Prognosis) रसायनिक कितना खतरनाक है और व्यक्ति की मेडिकल स्थिति पर निर्भर करती है।

उदाहरण के लिए, फेफड़ों की बीमारी वाले बुजुर्ग व्यक्ति को वाष्पीकृत अमोनियम क्लोराइड की मध्यम मात्रा गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं होंगी एक जवान खिलाड़ी की तुलना में जिसे कोई भी फेफड़ों की समस्या नहीं है।

सामान्य तौर पर, लक्षण जितने अधिक गंभीर होते हैं, उतनी ही अधिक संभावना है कि आपको अल्पकालिक और दीर्घकालिक स्वास्थ्य संबंधित जटिलताएं होंगी।

1. अल्पकालिक जटिलताओं में संभावित मौत के अलावा अन्य अंगों की चोट हो सकती है।
2. लंबे समय जटिलताओं के scarring और आवर्तक निमोनिया शामिल हैं।

बचाव : निमोनिया से कैसे बचे – How to avoid getting pneumonia

अगर आप चाहते हैं कि आपको निमोनिया प्रभावित ना करे तो इसके लिए आप कुछ उपाय अपना सकते हैं।

जैसे− निमोनिया और फ्लू से बचाव के लिए टीके उपलब्ध हैं। आप डॉक्टर की सलाह पर यह टीके लगवा सकते हैं। साफ सफाई(Hygiene) का ख्याल रखकर भी संक्रमण से बचा जा सकता है। श्वसन(Respiration) संक्रमण से खुद को बचाने के लिए आप अपने हाथों को नियमित रूप से धोएं या फिर अल्कोहल−आधारित हैंड सेनिटाइज़र का उपयोग करें।धूम्रपान से परहेज करें। धूम्रपान आपके फेफड़ों के श्वसन संक्रमण के खिलाफ प्रतिरक्षा प्रणाली को नुकसान पहुंचाता है।

इसे दूसरों में फैलने से बचाए – Protect Others from Infection

दूसरों में फैलने से बचाने के लिए:

  1. निमोनिया को फैलने से बचाने के लिए जितना हो सके लोगों से दूर रहें।
  2. साबुन और पानी से अपने हाथों को धोएं या अल्कोहल वाले हैंड सैनिटाइज़र का इस्तेमाल करें।
  3. अपनी आंखों, नाक या चेहरे को छूने के बाद अन्य किसी सतह को छूने से बचें। इससे कीटाणु फैल सकते हैं। कीटाणुओं को मारने के लिए अक्सर सतहों साफ करें।
  4. कीटाणुओं को मारने के लिए गर्म पानी में कपड़े धोने।

निमोनिया के घरेलू उपाय – Home Remedies for Pneumonia

Home Remedies for Pneumonia

निमोनिया की खासी के लिए घरेलू उपाय।

1. अदरक का रस
2. तुलसी का रस
दोनों को शहद में मिलाकर राम-राम से चाट या अगर बच्चे को है तो उसे कटवाए।

हमारे पूर्वज भी सबसे पहले इसी का इस्तेमाल करते थे क्योंकि यह आसानी से बन जाता है और बहुत जल्दी असर करता है।

गले में दर्द या जलन कम करने के लिए।

गले में दर्द या जलन को कम करने के लिए और गले को साफ करने के लिए यह उपाय करें:
एक गिलास गर्म पानी में 1/4 से 1/2 चम्मच नमक मिलाकर इस पानी के 5 मिनट गरारे करें।
हर रोज ऐसे दिन में दो से तीन बार करें।

जलन, बलगम, सूजन, दर्द को कम करने के लिए।

दूध में तुलसी, हल्दी, तेजपत्ता उबालें और फिर उसे छानकर पी लें।


निमोनिया के लिए आयुर्वेदिक उपचारAyurvedic treatment for pneumonia

Ayurvedic treatment for pneumonia

1. Divya Sitopaladi Churna – 25g
2. Divya Swasari Ras – 20g
3. Trikatu Churna – 20g
4. Abhrak Bhasma – 5g
5. Praval Pishti – 5g
6. Amrita Sat – 10
7. Swarna Vasant Malti Ras – 1-2g

इन सभी को मिला ले और शहद में मिलाकर चाटे।

छाती पर लगाने के लिए और सिर में दर्द कम करने के लिए आप दिव्य धारा और पतंजलि बाम का इस्तेमाल करें।

अगर आपातकालीन समय में आपके पास यह ना हो तो आप इसे घर पर भी बना सकते हैं।
इसे घर पर बनाने के लिए

  1. कपूर – 10g
  2. अजवाइन सत – 10g
  3. पेपर मिंट
  4. Eucalyptus oil
  5. लोंग तेल – 2g
    इन सभी को मिलाकर छाती पर लगाएं। सिर दर्द है तो सिर पर भी लगाएं, लाभ होगा

अगर घर पर यह सब भी नहीं है और घर के किसी बड़े या बच्चे को सांस लेने में बहुत दिक्कत हो रही है इस आपातकालीन स्थिति में आप पुराने गाय का घी या सरसों का तेल हल्का गर्म करके छाती पर लगा ले, मात्र 10 मिनट में आराम मिल जाएगा।

जिन बच्चों को निमोनिया और बुखार आता है उन्हें गिलोय घनवटी दें, छोटे बच्चों को आधी गोली और बड़ों को एक गोली सुबह-शाम दें।

Home Remedies and Yoga for Cough | Swami Ramdev – Youtube
निमोनिया मलेरिया रोगो में तुलसी का आयुर्वेदिक लाभ | Acharya Balkrishna – Youtube

Ayurvedic treatment for pneumonia by Swami Ramdev

SOURCES:

  1. National Heart, Lung, and Blood Institute: “Pneumonia,” “Explore Pneumonia: Treatment,” and “Explore Pneumonia: Living With.”
  2. Kids Health: “Pneumonia.”
  3. CDC: “Pneumonia: An Infection of the Lungs.”
  4. American Lung Association: “Pneumonia.”
  5. Mayo Clinic: “Pneumonia.”
  6. https://www.webmd.com/lung/understanding-pneumonia-basics#1
  7. Pneumonia- Mayo Clinic [Internet]. mayoclinic.org 2018 [Cited 23 August 2019]. Available from:https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/pneumonia/symptoms-causes/syc-20354204
  8. Pneumonia- Medline Plus, Health Topics, NIH, U.S. National Library of Medicine [Internet]. medlineplus.gov 2019 [Cited 23 August 2019]. Available from:https://medlineplus.gov/pneumonia.html
  9. Overview of Pneumonia- Merck Manual Consumer Version [Internet]. merckmanuals.com 2019 [Cited 23 August 2019]. Available from:https://www.merckmanuals.com/home/lung-and-airway-disorders/pneumonia/overview-of-pneumonia
Summary
Article Name
निमोनिया: लक्षण, कारण, रोकथाम, उपचार, प्रकार
Description
Pneumonia: Symptoms, Causes, Diagnosis, Treatment in Hindi. निमोनिया एक फेफड़ों का संक्रमण है जो हल्के से लेकर इतना गंभीर हो सकता है. LEARN EVERYTHING
Author
Publisher Name
Ayurved Magic
Publisher Logo

Leave a Reply